Bhikhari Aur Budha

एक समय की बात हैं एक बेघर इंसान था जो अपना पेट भरने के लिए घर घर जाकर भीख मांगता और खाना एकट्ठा करता था  एक दिन उसने ध्यान दिया की उसका खाना रोज गायब हो जाता हैं जब वह रोज की तरह घर आता हैं तो देखता हे की एक चूहा उसका खाना चुरा रहा हैं तो वह चूहे से कहता हे की तुम मेरा खाना को चुरा रहे हो में तो वैसे ही एक भिखारी हु तुम्हे अमीर घरो में जाकर उनका खाना चुराना चाहिए।।।

तब चूहा कहता हैं की इसमें में क्या कर सकता हु तुम्हारा खाना चुराना तो मेरे भाग्य में लिखा हुआ हैं तो भिखारी पूछता हैं क्यों चूहा कहता हे तुम कितना भी घर घर जाके भीख माँगो तुम अपने पास सिर्फ 8 चीजे ही रख सकते हो….

ये सुनके उस बिखरी को सदमा लगा और उसका दिल भी टूट गया वह अपने आप से कहने लगा की मेरा ही ऐसा भाग्य क्यों  हैं में ज्यादा से ज्यादा खाना एकट्ठा क्यों नहीं कर सकता इसपे चूहा कहता हैं की ये मुझे नहीं पता तुम्हे ये प्रश्न महात्मा बुद्ध से पूछना चाहिए शायद उनको पता हो…

भिखारी और धनी आदमी

इस तरह बेघर इंसान यात्रा पर निकल पड़ता हैं महात्मा बुद्ध को ढूंढने वह पूरा दिन यात्रा करके शाम को जब बुरी तरह थक जाता हे तो वह एक धनी परिवार के पास पहुँचा  क्यों की रात गुजारने के लिए उसे आसरा चाहिए  वह उस धनी परिवार से गुजारिश करता हे की उसे वहाँ रात बिताने दे वह भी मान जाते हैं जब धनी आदमी उससे पूछता हे की  वह  इतनी रात में भी यात्रा क्यों कर रहा  हे तब भिखारी अपनी सारी बात बताता हैं उस पर धनी आदमी कहता हैं क्या तुम मेरा भी एक प्रश्न महात्मा बुद्ध से पूछ सकते हो तब भिखारी कहता हैं क्यों नहीं में जरूर पूछुंगा धनी आदमी कहता हैं मेरी बेटी 16 वर्ष की हो गई और वह बोल नहीं सकती हमें बस ये जानना हे की हम ऐसा क्या करे की वह बोलने लग जाए ?

भिखारी और जादूगर

अगले दिन वह वहाँ से निकल जाता हैं अपनी यात्रा के लिए आगे चलकर उसे बड़े बड़े पहाड़ मिलते जो उसे पार करने हे उन पहाड़ो को देख कर वह मन ही मन कहता हैं हे भगवान में इन पहाड़ो को कैसे पार कर पाउँगा जब वह एक पहाड़ को पार करने लगता हैं तब उसे एक जादूगर मिलता हैं वह उससे पूछता हे की तुम इन पहाड़ो पर क्या कर रहे हो और कहाँ जा रहे हो ? भिखारी अपनी सारी बात उस   जादूगर  बताता हें  इस पर जादूगर बोला क्या तुम मेरा भी एक प्रश्न महात्मा बुद्ध से पूछ सकते हो ? बिखरी केहता हे क्यों नहीं  में जरूर पूछुंगा जादूगर केहता हैं में 1000 सालो से स्वर्ग जाने की कोशिश कर रहा हूँ  मेरी शिक्षा के अनुसार अभी तक मुझे स्वर्ग पहुँच जाना चाहिए था उनसे पूछना की मुझसे ऐसी क्या गलती हो रही हैं जिसकी वजह से में स्वर्ग नहीं जा पा रहा हूँ इतना कहके जादूगर अपनी जादुई झड़ी पर उसको बैठता हैं और पहाड़ो को पार करवा देता हैं…..

भिखारी और कछुआ

भिखारी आगे की यात्रा को शुरू करता हैं पर उसे आगे एक आखरी रुकावट मिलती हैं एक गहरी नदी ! तभी वहाँ  एक वृद्ध कछुआ आता हे  और उसको नदी पार करने की सोचता हैं और भिखारी से पूछता है की तुम कहा जा रहे हो ? भिखारी उसको सारी बात बताता हे इस पर कछुआ कहता हे में भी कई सालो से ड्रैगन बनना चाहता हूँ पर लाखो कोशिशों के बाद भी नहीं बन पा रहा हूँ क्या तुम महात्मा बुद्ध से पूछोगे की मुझे क्या करना होगा ड्रैगन बनने के लिए ? भिखारी तुरंत कहता  है हाँ जरूर पूछुंगा | और कछुआ उसे उस गहरी नदी को पार करा देता हैं भिखारी उसको धन्यवाद करके अपनी आगे की यात्रा शुरू करता हैं

भिखारी और महात्मा बुद्ध

आख़िरकार वह पहुँच जाता हैं जहा महात्मा बुद्ध रहते हैं वह उसके अन्दर जाता हे और महात्मा बुद्ध को सादर नमस्कार करता हे और बोलता में बहुत दूर देश से आया हूँ कुछ प्रश्न पूछना चाहता हूँ महात्मा बुद्ध कहते हैं पूछो क्या पूछना चाहते हो पर ध्यान रहे में तुम्हारे सिर्फ 3 प्रश्नो का ही उतर दूँगा | अब भिखारी परेशान हो जाता हैं क्योंकी उसके पास तो 4 प्रश्न हैं वह पहले उस गूँगी लड़की के बारे में सोचता हैं फिर जादूगर और इसी तरह कछुए के बारे में वह मन ही मन में कहता हैं इन लोगो के प्रश्न आवश्यक हैं मेरा क्या हे में तो भीख माँग के भी अपना गुजरा कर सकता हूँ

तब वह तीनो प्रश्न उनसे पूछ लेता हैं बुद्ध कहते हैं कछुआ अपना ठांचा छोड़ने को त्यार नहीं हे इसी लिए वह ड्रैगन नहीं बन पा रहा…

जादूगर अपनी जादुई झड़ी हमेशा अपने साथ रखता हैं जिसकी वजह से वह स्वर्ग नहीं जा पा रहा हैं….

और रही बात गूँगी लड़की की  वह जरूर बोल पायेगी जब वह अपने हमसफ़र से मिलेंगी।।।

भिखारी महात्मा बुद्ध को नमस्कार करके उनसे विदा लेता हैं और अपने घर को निकल जाता हैं

रस्ते में उसे कछुआ मिलता हैं वह उससे कहता हे जब तक तुम अपने ठांचे से निकल नहीं जाते तब तक तुम ड्रैगन नहीं बन सकते यह सुनकर कछुआ ठांचे से बहार निकलता हैं और वह ड्रैगन बन जाता हैं उसके ठांचे में बहुत सारी मोतियाँ होती हैं वह कहता हैं इन सभी को तुम रखलो अब ये मेरे किसी काम की नहीं | भिखारी बहुत खुश होता हैं और उन मोतियों को वह रख लेता हैं। …

आगे जाते हुए रास्ते में जादूगर मिलता हैं वह उससे कहता हैं बुद्ध कहते की तुम हमेशा अपनी जादुई छड़ी अपने साथ रखते हो इसी लिए स्वर्ग में नहीं जा पा रहे तभी वह जादुई छड़ी भिखारी को दे देता हैं और देखते ही देखते वह स्वर्ग जाने लगता हैं

अब वह उस छड़ी पर बैठ के आगे जाता हैं जहाँ धनी आदमी रहता हैं वह उनसे केहता हैं की जब तुम्हारी लड़की अपने हमसफ़र से मिलेगी तब वह बोलने लगेंगी उसी वक़्त उनकी लड़की आती हैं और कहती हैं की क्या ये वही हैं जो पिछले हफ्ते यहाँ आये थे धनी आदमी हैरान रह गया कुकी वही उसकी लड़की का हमसफ़र था उसने उन दोनों की शादी कर दी और वह दोनों एक खुशहाल ज़िन्दगी जीने लगे

 

In English

Once upon a time, there was a homeless person who used to beg and collect food from house to house to fill his stomach, one day he noticed that his food disappears every day when he comes home, as usual, he sees that If a mouse is stealing his food, he tells the mouse that you are stealing my food, I am a beggar like that, you should go to rich houses and steal their food.

Then the mouse says that what can I do to steal your food, it is written in my destiny, then the beggar asks why the mouse says that no matter how much you go from house to house begging, you can keep only 8 things with you… .

Hearing this, the scattered was shocked and his heart was also broken, he started saying to himself that why I have such a fate, why can’t I collect more and more food, on this the rat says that I do not know this question to you Mahatma Buddha Maybe they know…

beggar and the rich man

In this way, the homeless person sets out on a journey to find Mahatma Buddha, when he is very tired in the evening after traveling the whole day, he reaches a rich family because he needs shelter to spend the night, he requests that rich family. Hey, let him spend the night there, he also agrees when the rich man asks him why he is traveling even in such a night, then the beggar tells his whole story to him, the rich man says do you also have a question for me Mahatma Buddha If you can ask, then the beggar says why not I will definitely ask the rich man says that my daughter is 16 years old and she cannot speak, we just want to know that what should we do so that she starts speaking?

 

 

beggar and magician

The next day he leaves from there, for his journey, he finds big mountains which he has to cross, seeing those mountains, he says to himself, Oh God, how will I be able to cross these mountains when he crosses a mountain? When he starts crossing, he meets a magician, he asks him what are you doing on these mountains and where are you going? The beggar tells his whole story to that magician, on this the magician said, can you ask me a question to Mahatma Buddha too? Why is it not scattered, I will definitely ask a magician, I have been trying to go to heaven for 1000 years, according to my education, I should have reached heaven by now, asking them what mistake I am doing because of which I am not heaven I am able to go by saying so much so that the magician sits on his magic wave and makes him cross the mountains…..

beggar and tortoise

The beggar starts the journey ahead but he gets one last stop ahead of a deep river! Just then an old tortoise comes there and thinks of crossing the river with him and asks the beggar where are you going? The beggar tells him the whole thing, on this, the tortoise says that I want to become a dragon for many years but I am not able to become it even after millions of efforts, will you ask Mahatma Buddha what I have to do to become a dragon? The beggar immediately says yes, I will definitely ask. And the tortoise makes him cross that deep river, the beggar thanks him and starts his onward journey.

Beggar and Mahatma Buddha

At last, he reaches where Mahatma Buddha lives, he goes inside and greets Mahatma Buddha and says I have come from a faraway country I want to ask some questions Mahatma Buddha says ask what you want to ask but keep in mind I will answer your only 3 questions. Now the beggar gets upset because he has 4 questions, he first thinks about that dumb girl, then the magician, and likewise, he says in his mind about the turtle, the questions of these people are necessary, what do I have? I can survive even by begging

Then he asks them all three questions. Buddha says that the tortoise is not ready to leave his place, that’s why he is not able to become a dragon…

The magician always keeps his magic rain with him, due to which he is not able to go to heaven.

And the thing is that a dumb girl will definitely be able to speak when she meets her soul mate.

The beggar salutes Mahatma Buddha and bids farewell to him and leaves for his house, he meets a tortoise on the way, he tells him that you cannot become a dragon until you leave your place, hearing this the tortoise comes out of the place And he becomes a dragon, there are many pearls in his frame, he says, keep all of them, now it is of no use to me. The beggar is very happy and he keeps those pearls. …

On the way ahead, he meets a magician, he tells him that Buddha says that you always keep your magic wand with you, that is why you are not able to go to heaven, only then he gives the magic wand to the beggar and on seeing he starts going to heaven.

Now he goes ahead sitting on the stick where the rich man lives, he tells them that when your girl meets her friend, she will start speaking, at the same time his girl comes and says is this the one who came here last week The rich man was surprised. Cookie was his daughter’s friend. He married them both and they both started living a happy life.